Amazing Facts In Hindi ― एक बाल्टी के लिए 2000 सैनिकों ने अपनी जान गवा दी थी?

दोस्तों दुनिया भर में ऐसी ऐसी घटनाएं हुई हैं जिनको सुनकर एक बार तो विश्वास करना भी काफी ज्यादा कठिन मालूम पड़ता है। लेकिन उन घटनाओं के साथ कुछ सवाल भी लोगों के सामने आए जिनके जवाब काफी ज्यादा मजेदार हैं।

 

और उन्हीं में से कुछ Amazing Facts In Hindi जैसे — दुनिया के इतिहास का सबसे अमीर इंसान जो जिस जगह से गुजरता था वहां सोना लुटाता था और दुनिया का एक ऐसा शहर जहां पर इंसान से लेकर जानवर तक पत्थर बन गए थे। और ऐसी ही एक घटना जहां केवल एक बाल्टी के लिए दो हजार से ज्यादा सैनिक मर मिटे थे।

यह सभी बातें हमें सुनने में काफी ज्यादा अजीब और इंटरेस्टिंग लगती हैं लेकिन इनसे जुड़े हुए फैक्टस को जानना भी उतना ही ज्यादा जरूरी होता है।

इसलिए आज की इस ब्लॉग पोस्ट में मैं इन घटनाओं से जुड़े फैक्टस को लेकर आप सभी के सामने हाजिर हूं।

———————-

3 अद्भुत तथ्य हिंदी में!

01. इतिहास का वह सबसे अमीर आदमी कौन था? जो जहां से गुजरता था वहां पर सोना लुटाता हुआ चलता था।

वैसे तो दोस्तों इतिहास में एक से बढ़कर एक राजा हुए हैं जिनके अलग-अलग कारनामे हुए हैं जिनको दुनिया आज भी याद करती है।

लेकिन इतिहास के सबसे अमीर राजाओं में जिस राजा का नाम सुमार था वह था मनसा मूसा,  इसका असली नाम मूसा कीटा प्रथम था।

जी हां दोस्तों टिम्बकटू का वही राजा जिसका काफिला जब काहिरा से गुजरा तो वहां उन्होंने इतना दान दे दिया कि उस इलाके में बड़े पैमाने पर महंगाई बढ़ गई थी।

टिंबकटू जो इस समय अफ्रीकी देश माली का एक शहर है। उस समय उस पर मूसा का राज हुआ करता था। जब वहां पर भारी मात्रा में सोने का भंडार हुआ करता था।

ऐसा माना जाता था की उस समय वहां पर हर साल एक हजार किलो टन सोने का उत्पादन होता था।

मूसा कितना ज्यादा अमीर था इस बात का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि एक बार जब वह है मक्का की यात्रा पर निकला। तो उसके काफिले में 60000 लोग थे जिसमें से 12000 लोग केवल उसके निजी सेवा के लिए थे।

और मूसा के काफिले में 80 ऊंटों का जत्था भी था इनमें से हर एक ऊंट पर 136 किलो सोना लदा था।

————————-

02. दुनिया का ऐसा कौन सा शहर था जहां पर इंसान से लेकर जानवर तक पत्थर बन गए थे?

दुनिया में कई सारे रहस्य हैं जिन पर से अब तक पर्दा नहीं उठा है और उन्हें रहस्यों में से यह भी एक है।

दरअसल यह फैक्ट जुड़ा है इटली के एक शहर पोम्पई से । 79 ईस्वी के पहले पोम्पई एक आम शहर जैसा ही दिखता था।

लेकिन उसके बाद कुछ ऐसा हुआ जिसने इस शहर को पत्थर में तब्दील कर दिया।

जब पुरातत्व विभाग को इस जगह के बारे में मालूम पड़ा तो उन्होंने इसके ऊपर छानबीन शुरू की और इसमें उन्हें काफी सारी चौका देने वाली चीजें मिली जिनमें से घोड़े और इंसान का शव भी था और दोनों शव पत्थर जैसे थे।

जब उन्होंने इस चीज के बारे में और गहराई से रिसर्च की तो उन्हें मालूम पड़ा कि यह सब कुछ ज्वालामुखी के फटने से हुआ। पोम्पई के करीब नैपल्स की खाड़ी में माउंट वसूवीयस थी जो अचानक से फट गई थी।

और जब ज्वालामुखी फटा तो शहर के लोगों के ऊपर लावा बरसने लगा जिस वजह से शहर में रहने वाले 11 से 15 हजार लोगों की मौत हो गई और जब चीजें नॉर्मल हुई तो सभी शव ठोस बन चुके थे।

इन शवों में पत्थर धातु सब कुछ मिल चुका था।

————————

03. ऐसा क्या हुआ था कि एक बाल्टी के लिए दो हजार से भी ज्यादा सैनिकों ने अपनी जान गवा दी थी?

दोस्तों आपने बहुत सारे युद्धों के बारे में पढ़ा होगा लेकिन उन सभी चीजों में एक बात जो कॉमन होगी वह यह है कि उन युद्धों के पीछे कोई ना कोई बड़ा कारण रहा होगा।

लेकिन अगर आपसे कोई कहे कि एक ऐसा युद्ध भी हुआ जिसमें केवल एक बाल्टी के लिए दो हजार सैनिकों ने अपनी जान गवा दी तो यह सुनने में काफी ज्यादा हैरान कर देने वाला लगता है।

दोस्तों दरअसल यह कहानी है दो राज्यों की जिनका नाम था बोलोग्ना और मोडेना।

यह दोनों राज्य 1296 में आपस में एक लड़ाई लड़ चुके थे जिस वजह से वहां के लोगों के बीच में हमेशा तनाव का माहौल बना रहता था

और ऐसे में 13वीं शताब्दी में मोडेना के सैनिक बोलोगना में घुस गए और वहां से शहर के बीचोबीच में रखी एक बाल्टी उठा लाए।

बोलोगना के सैनिक मोडेना से जो भी सामान लूट करके लाए थे। उसमें से कीमती चीजों को वो बाल्टी में रखते थे और यह बाल्टी शहर के बीचो-बीच रहती थी।

और जब बोलोगना को इस बात का पता चला तो उन्होंने इसे अपने सम्मान पर चोट समझी। हालांंकि बोलोगना के सैनिकों ने मोडेना के सैनिकों से बाल्टी वापस लौटाने की मांग की लेकिन मोडेना ने उनकी मांग का ठुकरा दिया और इसी वजह से बोलोगना ने मोडेना के खिलाफ युद्ध छेड़ा।

जहां बोलोगना की सेना में 32000 सैनिक थे जिसमें 2,000 घुड़सवार सैनिक थे और दूसरी तरफ मोडेना की सेना में मात्र सात हजार सैनिक थे, मगर इतना भारी अंतर होने के बावजूद भी मोडेना ने बोलोगना को हरा दिया।

और ऐसा माना जाता है कि इस बाल्टी की लड़ाई में करीब 2000 सैनिकों ने अपनी जान गंवाई थी।

————————

आज की ब्लॉग पोस्ट में बस इतना ही हम उम्मीद करते हैं कि आपको “Amazing Facts In Hindi” के बारे में जानकर काफी मजा आया होगा और काफी कुछ नया जानने और सीखने को मिला होगा।

यह भी पढ़ें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *